BCA ke Baad Kya Kare | BCA के बाद क्या करे

इस आर्टिकल में आपको Bca ke baad kya kare इसके बारे में बताया है और हम यह बहुत ही विस्तार से बताएँगे की Bca ke baad kya kare in hindi यह सवाल हर ओ स्टूडेंट का होता है जो बीसीए करने की चाह रखते है तो यदि आप भी उनमे से एक हैं जो bca ke baad kya karen इसके बारे में जानना चाहते है तो इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें

BCA ke Baad Kya Kare
BCA ke Baad Kya Kare

आज दुनिया आधुनिक बन चुकी है। लोगों को आधुनिक चीजें और आधुनिक कार्यों का आदत पड़ चुकी है। दूसरे शब्दों में कहा जाय तो आज प्रत्येक कार्य कंप्यूटर के द्वारा किया जा रहा है। और आज का युवा भी टेक्नोलॉजी को ज्यादा महत्व दे रहे है। और दोस्तों जैसे कि हम जानते है कि Bca (Bachelor in computer application) इन क्षेत्रों में जाने के लिए पहला कदम और सबसे बेहतर कोर्स होता है।

बीसीए वे लोग करते है जो अपना कैरियर कंप्यूटर के क्षेत्र में बनाना चाहते है। परंतु जब हम अपना बीसीए का कोर्स पूरा कर लेते है तब हमारे मन मे यह सवाल उठता है कि अब आगे क्या किया जाए। तो दोस्तों अगर आप जानना चाहते है कि बीसीए कोर्स को पूरा करने के बाद क्या करना चाहिए तो आप इस आर्टिकल तो ध्यान से पढ़ सकते है क्योंकि आज हम इस आर्टिकल में जानने वाले है कि बीसीए कोर्स के बाद क्या करे

Bca के बाद क्या करे (Bca ke baad kya kare) 

BCA का full form Bachelors In Computer Application होता है। इस कोर्स में कंप्यूटर प्रोग्रामिंग से संबंधित प्रत्येक जानकारियों का अध्ययन किया जाता है जैसे सॉफ्टवेयर डेवलोपमेन्ट कैसे होता है, कॉपम्प्यूटर सेक्युरिटी क्या होती है और इसे किस तरह तैयार करते है, साथ ही डाटा बेस आधारित सम्पूर्ण कार्य, इत्यादि।

बड़े बड़े कंपनियों में अब कम्प्यूटर इंजीनियर की मांग अधिक बढ़ चुकी है इसलिए अब इस कोर्स में अधिक कम्पटीशन लड़ने की और एक्सपर्ट बनने की जरूरत होती है। यह कोर्स 3 वर्ष का होता है जिसमे से आपको 6 सेमेस्टर का परीक्षा देना होता है। जब आप अपना बीसीए का कोर्स पूरा कर लेते है तो आगे आप क्या करे यह नीचे विस्तार से बताया गया है।

Most Read:- BSc ke Baad kya kare | बीएससी के बाद क्या करे

BCA पूरा हो जाने पर क्या करे

दोस्तों जब आप बीसीए का कोर्स पूरा कर लेते है तो आप कंप्यूटर संबंधित सभी जानकारियों से परिचित हो जाते है। बीसीए करने के बाद बहुत से लोग होते है जो अपना खुद का बिज़नेस शुरू कर देते है। अगर आप अपना बीसीए का 3 साल का कोर्स पूरी लगन और मेहनत से करते है और प्रत्येक सेमेस्टर में आपका प्रदर्शन अच्छा होता है तो बीसीए कोर्स पूरा हो जाने के बाद बड़े बड़े आईटी कंपनियों में जॉब करने का अवसर भी मिल सकता है और आप उस जॉब को कर सकते है।

परंतु आगर आप चाहते है कि आप अपना पढ़ाई को आगे तक रखे और कंप्यूटर के कुछ और जानकारियों को प्राप्त करे तो आप यह कर सकते है। अगर आप अपना पढ़ाई को आगे तक जारी रखते है तो आपका जॉब प्राप्त होने की संभावना अत्यधिक बढ़ जाती है और साथ ही आपका कंप्यूटर ज्ञान भी बढ़ जाता है। इस प्रकार से आप कंप्यूटर के अच्छे खासे परिचित हो जाते है और एक शानदार कंप्यूटर इंजीनियर बन जाते है।

और वर्तमान समय मे प्रत्येक आईटी कंपनियाँ एक एक्सपर्ट और टैलेंटेड कंप्यूटर इंजीनियर की मांग करते है जो उस कम्पनी के लिए कुछ बेहतर करे। आइए अब हम जानते है कि बीसीए कोर्स के बाद आप क्या कर सकते है।

BCA Ke Baad konsa course kare

अगर आपका बीसीए कोर्स कम्पलीट है और आप अपना पढ़ाई को आगे रखना चाहते है तो आप बीसीए के बाद निम्नलिखित कोर्स को पूरा कर सकते है

MBA (मास्टर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन):- बीसीए कोर्स के बाद आप चाहे तो एमबीए का कोर्स का कोर्स कर सकते है। यह कोर्स पूरे 2 वर्ष का होता है और इसमें आपको बिजनेस व्यापार से संबंधित सभी जानकारियों को बताया जाता है। अगर आप बीसीए के बाद एमबीए करना चाहते तो आप इन क्षेत्रों में से किसी एक का चुनाव कर सकते है जैसे फाइनेंस, बैंकिंग, मार्केटिंग, फोरेन, रिटेल, कल्चर इत्यादि।

अगर आप एमबीए का कोर्स भी कम्पलीट कर लेते तो आप अपना कैरियर किसी भी बिज़नेस और आईटी कंपनी में बना सकते है। एमबीए किया हुवा इंजीनियर प्रतिवर्ष 7 लाख तक का वेतन कमाता है। बीसीए के बाद एमबीए करना सबसे अच्छा विकल्प होता है परंतु बड़े बड़े संस्थानों में इस कोर्स को पूरा करने के लिए अधिक पैसों की आवश्यकता होती है। इस कोर्स में आपको 2 वर्ष में बिजिनेस लॉ (business law), एकाउंटिंग (accounting), मार्केटिंग एंड ऑपरेशन (marketing and operations), फाइनेंस मैनेजरियल (finance, managerial economics), इत्यादि विषयों के बारे में पढ़ाया जाता है।

अगर आप इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (IIM) द्वारा MBA की कोर्स को पूरा करते है तो इसकी फीस आपको 11 लाख से 28 लाख तक चुकानी पड़ती है वहीं अगर आप इसे बंगलोर जैसे शहर से करते है तो आपको इस कोर्स के लिए 23 लाख तक का फीस देना होगा। यह फीस और भी अधिक हो सकती है। यानी कि इस कोर्स को करने के लिए कितना रुपये चुकाना होगा यह उस कॉलेज द्वारा निर्धारित होती है।

आप जितने बड़े कॉलेज में दाखिला लेंगे उतना ही रकम आपको चुकाने होंगे। इसलिए आप आपने कोर्स को पूरा करने के लिए किसी भी कॉलेज में एडमिशन लेने के पहले यह जानकारी हासिल कर ले कि कॉलेज की फीस और सीट कितनी है।

MCA:- बीसीए करने के बाद हमारे पास एमसीए करने का सबसे बड़ा विकल्प होता है। MCA का फुल फॉर्म मास्टर इन कंप्यूटर एप्लीकेशन होता है। यानी कि अगर आप इस कोर्स को कम्पलीट कर लेते है तो आप कंप्यूटर में मास्टर का डिग्री प्राप्त कर लेते है जो कंप्यूटर के क्षेत्र में सबसे अधिक भूमिका निभाती है। बहुत से लोग बीसीए के बाद एमसीए करना चाहते है क्योंकि इसमें आपको सॉफ्टवेयर अर्थात कंप्यूटर प्रोग्राम का बाकी जानकारी को भी बताया जाता है।

अगर आप इस कोर्स को करते है तो आप एक एक्सपर्ट और अच्छे नॉलेज वाले कंप्यूटर इंजीनियर के श्रेणी में आ जाते है। अगर आप इस कोर्स को पूरा कर लेते है तो आपको किसी भी आईटी कंपनी में जॉब आसानी से प्राप्त हो जाता है। यह कोर्स भी 3 वर्ष का होता है जिसमे से आपको इन तीन वर्षों में कुल 6 सेमेस्टर की परीक्षायें देनी होती है। लोग बीसीए के बाद इस कोर्स को करना चाहते है क्योंकि इस कोर्स को करने की कम फीस देनी होती है।

साथ ही इस कोर्स को किसी भी सरकारी और प्राइवेट कॉलेज से किया जा सकता है। अगर आप एमसीए का कोर्स किसी सरकारी कॉलेज से करते है तो आपको फीस के लिए 30 से 35 हजार रुपये प्रतिवर्ष देने होते है और वहीं अगर आप इस कोर्स को किस प्राइवेट College से करते है तो आपको प्राइवेट कॉलेज में फीस के रूप में 60 हजार से 70 हजार रुपये तक चुकाना पड़ता है। दूसरे शब्दों में कहा जाए तो बीसीए कोर्स करने के बाद एमसीए का कोर्स करना एक बेहतर ऑप्शन होता है।

Most Read:-  B.Com ke baad kya kare | बीकॉम के बाद क्या करे

इसके अलावा बीसीए करने के बाद ओर भी कई तरह के क्षेत्र है जहाँ पे अपना भविष्य बना सकते है। जैसे-

सॉफ्टवेयर प्रोग्रामिंग (Software Programmer):– हम जानते है कि कंप्यूटर एक हार्डवेयर है और इसे चलने के लिए किसी सॉफ्टवेयर की आवश्यकता होती है। अर्थात आप बीसीए कोर्स करने के बाद सीधे सॉफ्टवेयर इंजीनियर बन सकते है और किसी कंपनी के लिए सॉफ्टवेयर बना सकते है। क्योंकि सभी आईटी कंपनियों को अपने कंपनी के लिए एक अच्छा और आकर्षक सॉफ्टवेयर की आवश्यकता होती है।

जानकारी के लिए बतादें दें कि किसी भी तरह का सॉफ्टवेयर बनाने में बहुत से प्रक्रियाओं द्वारा गुजरना पड़ता है जैसे Analysis, Design Coding (Programming), Testing, deployment, support and maintenance और इन सभी चीजों की जानकारी हमे पहले ही बीसीए का कोर्स में मिल जाती है।

इसमें प्रोग्रामिंग जिसे कोडिंग भी कहा जाता है, Software का सबसे महत्वपूर्ण स्थान होता है क्योंकि यह प्रोग्राम को रन अर्थात चलाने में साहयता करता है। एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए आपका प्रोग्रामिंग नॉलेज के साथ साथ कीवर्ड टाइपिंग भी अच्छी होनी चाहिए जो पहले से ही प्रैक्टिस किया हुआ रहता है। एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर का वेतन करीब 25,000 से लेकर लाखों तक होती है। अगर दूसरे शब्दों में कहा जाए तो एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर का वेतन कितना होगा वह उसके एक्सपीरियंस और तकनीकी ज्ञान के आधार पर निर्भर करती है।

यानी वह अपने कम्पनी के लिए कितना रोचक और बेहतर सॉफ्टवेयर तैयार करता है उतना ही वेतन उसे प्राप्त होता है। अलग अलग सॉफ्टवेयर इंजीनियर का वेतन भी अलग अलग होता है यानी जो जितना एक्सपर्ट है उसका वेतन भी उतना ही शानदार है। इसलिए इस कोर्स को ध्यान पूर्वक करना चाहिए ताकि आपका एक भी टॉपिक न छूटे। दोस्तों सबसे मजे की बात यह होती है कि एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर अपना एक निजी सॉफ्टवेयर बना कर भी इनकम प्राप्त कर सकता है। मार्केट में बहुत से सॉफ्टवेयर एप्पलीकेशन देखे जा सकते है इस से लोग लाखों की कमाई घर बैठे ही करते है। अर्थात एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना काफी बेहतर और सम्मानपूर्ण है।

Data Analysis (डाटा साइंटिस्ट):- डाटा साइंटिस्ट (Data Analysis) का काम होता है अपने कंपनी की डेटा को संभाल कर रखना और समय पर लोगों के सामने प्रस्तुत करना। अगर आप बीसीए कर लिए है तो आपके पास डाटा साइंटिस्ट बनने का एक मौका है जो आप अपनी आगे की पढ़ाई पूरी कर के कर सकते है। एक Data Analysis इंजीनियर की मांग वर्तमान समय मे सभी बड़े कंपनियों द्वारा की जाती है।

अगर आप इस क्षेत्र में एक्सपर्ट है तो आपकी जॉब लगने के संभावना सबसे अधिक है। परंतु इस क्षेत्र में सबसे अधिक जानकारी वाली बात यह होती है कि आपको एक Data Analysis बनने के लिए जावा, पायथन, आर, रास जैसे कंप्यूटर लैंग्वेज की जानकारी होना आवश्यक है। दोस्तों हम बता दें कि इस कोर्स को करने के लिए भारत मे बहुत से कॉलेज है परंतु इसकी फीस लगभग 25,000 से लेकर 25,0000 तक होती है।

यह फीस अलग अलग राज्य में अलग अलग भी हो सकती है। वहीं अगर आपकी जॉब किसी कंपनी में लग जाती है तो हम आपको बता दें कि शुरुआत में एक Data Analysis का वेतन 15,000 से लेकर 30,000 तक होती है। और जब आप इस काम मे स्मार्ट हो जाते है तो आपका वार्षिक वेतन 2 लाख से 3 लाख तक पहुंच जाता है या इस से भी ज्यादा। इसका भी वेतन आपके एक्सपीरियंस पर निर्भर करता है।

बीसीए करके कमाई करें

हमने आपको ऊपर ही बताया कि एक बीसीए किया हुआ कंप्यूटर इंजीनियर अपना खुद का सॉफ्टवेयर निर्माण करके पैसा कमा सकता है। दोस्तों अब नेटवर्क के द्वारा भी इनकम किया जा सकता है और उस समय यह ओर आसान हो जाता है जब आप बीसीए का कोर्स को पूरा कर लेते है। बीसीए के कोर्स में प्रोग्रामिंग लैंग्वेज यानी कि कोडिंग सिखाया जाता है साथ मे सॉफ्टवेयर भी बनाना सिखाया जाता है।

दोस्तों जब आप बीसीए का कोर्स पूरा कर लेते है तो आप कंप्यूटर क्षेत्र के विभिन्न प्रकार के जानकारियों से परिचित हो जाते है। अब आप किसी भी तरह के सॉफ्टवेयर बनाने में सक्षम है, इसलिए एक बीसीए किया हुआ छात्र घर बैठे अपने द्वारा बनाया हुआ एप्पलीकेशन और विभिन्न प्रकार के सॉफ्टवेयर से इनकम कर सकता है।

Most Read:-  B Pharma ki Fees kitni hai | बी फार्मा की फीस कितनी है

निष्कर्ष

दोस्तों आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से जाने की बीसीए के बाद क्या करे? (What to do after BCA?) , बीसीए के बाद कौन सा कोर्स करें? और साथ ही उन कोर्सों के वारे में भी विस्तार से जाना। हम इस आर्टिकल में यह भी चर्चा किये की बीसीए कोर्स करके कैसे इनकम कर सकते है?

उम्मीद करते है की Bca ke baad kya kare ये आर्टिकल आपको पसंद आई होगी क्यूंकि Bca ke baad kya karen इसकी जानकारी बहुत ही विस्तार से दिए है इसी लिए यदि यह आर्टिकल आपको पसंद आई होगी तो इसे अपने दोस्तों को शेएर कर सकते है